Himachal Tonite

Go Beyond News

नशों की आदी महिलाओं के लिए भुन्तर में स्थापित एकीकृत पुर्नवास केन्द्र एक आशा की किरण के रूप में ला रहा है नव जीवन का उजाला

कुल्लू: हिमाचल प्रदेश में ऐसा पहला महिलाओं के लिए एकमात्र केन्द्र जहां नशा मुक्ति के लिए प्रशिक्षित एवं समर्पित स्टाफ दे रहा सेवाएं
मादक पदार्थों का विकार समाज में एक गंभीर समस्या बन चुकी है। मादक पदार्थों पर निर्भरता न केवल व्यक्ति के स्वास्थ्य को प्रभावित करती है बल्कि उनके परिवार को भी पुरी तरह से निराशा एवं परेशान करती है। युवा पीढ़ी में मादक द्रव्यों का प्रचलन एक चिंता का विषय बन चुका है। एम्स नई दिल्ली द्वारा वर्ष 2019 के राष्ट्रीय सर्वेक्षण से खुलासा हुआ है कि भारत में मादक द्रव्यों के सेवन में शराब का सबसे आम उपयोग किया जा रहा है जिसके बाद भांग  तथा अफिम का उपयोग सर्वाधिक है। लगभग 16 करोड़ लोग शराब का सेवन करते है तथा 3.1 करोड़ लोग भांग के उत्पादों का सेवन करते है। हमारे देष में 2.26 करोड़ लोग ओपिओइड का इस्तेमाल करते हैं इसके अलावा  नींद/दर्द की दवाइयों तथा सूघ्ंने वाले पदार्थों का उपयोग करने वालें की संख्या काफी है। प्रदेश में जिला कुल्लू, शिमला, मंडी तथा चंबा में विशेषकर युवाओं में नशे का प्रचलन बढ़ता जा रहा है इनसे महिलाएं भी अछूती नही रहीं हैं।
हिमाचल प्रदेश में महिलाओं में मादक द्रव्यों कि लत की उभरती प्रवृत्ति को ध्यान में रखते हुए भारतीय रैड क्रॅास सोसायटी, जिला शाखा कुल्लू द्वारा  भुन्तर में महिलाओं के लिए 15 बिस्तरों का एकीकृत नशा निवारण एवं पुर्नवास केन्द्र कि शुरूआत की है। उपायुक्त एवं रैडक्रास जिला शाखा के अध्यक्ष श्री आशुतोष गर्ग ने इस केंद्र के बारे जानकारी देते हुए कहा कि महिला एकीकृत पुर्नवास केन्द्र भुन्तर में स्थापित प्रदेश का ऐसा एकामात्र केन्द्र है जो महिलाओं  नशा मुक्ति तथा पुर्नवास के उपचार हेतू मुफ्त सेवाएं प्रदान कर रहा है।
पिछले दिनों हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल श्री राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर ने भी भुंतर स्थित  महिलाओं के लिए बने इस एकीकृत नशानिवारण एवं पुनर्वास केंद्र का दौरा किया किया था तथा वहां कार्यान्वित की जा रही सुविधाओं की जानकारी ली। उन्होंने वहां कार्यारत परामर्शदाताओं से जानकारी प्राप्त की तथा उपचाराधीन रोगियों से भी बातचीत की। राज्यपाल ने उनके द्वारा बनाये गए रंगीन चित्रों को देखा तथा इनकी सराहना की।
इस अवसर पर, रोगियों से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि उन्हें अपनी गलतियों को सुधारने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि वे कोशिश करें कि यहां से जल्द स्वस्थ होकर वापस घर जाएं और कार्य करते हुए सकारात्मक दिशा में आगे बढ़ें। वे अपने आप को कार्य में व्यस्त रखें क्योंकि हर व्यक्ति उनकी मदद के लिए तैयार है।
इस महिला एकीकृत पुर्नवास केन्द्र में नशा मुक्ति के ईलाज हेतू 15 बिस्तरों का प्रावधान करते हुए डाक्टर, मनोचिकित्सक, काउंसलर, नर्स, वार्ड अटेन्डेन्ट,परियोजना समन्वक, सुरक्षा कर्मी, सफाई कर्मी इत्यादि की तैनाती की गई है। भवन में स्नानागार/शौचालय, नर्सिंग स्टेशन, मनोरंजन गतिविधियों तथा सामूहिक परामर्श के लिए एक कॉमनरूम तथा सुरक्षा की दृष्टि से भवन में सी.सी. टी.वी. कैमरे तथा चारों ओर फैन्सींग की व्यवस्था की गई है।
इस केन्द्र का मुख्य उद्देश्य मादक द्रव्यों के दुष्परिणामों के बारे जनमानस में जागरूकता करना है ताकि उन्हे शराब तथा अन्य मादक द्रव्यों से होने वाले स्वास्थ्य पर दुष्परिणामों से बचाया जा सके।  ऐसी महिलाएं जो नशे की आदी हो चुकी है उनकी पहचान कर के नशा मुक्ति के ईलाज हेतू प्रेरीत करना उन्हे ईलाज उपरान्त पुर्नवासित करना है। इस उद्ेश्य को प्राप्त करने के लिए एकीकृत पुर्नवास केन्द्र की टीम शैक्षणिक संस्थाओं पंचायतों तथा महिला मंडलों का नियमित दौरा कर रही है। केन्द्र में डॅाक्टर द्वारा सुबह 10:00 बजे से शाम 4:00 बजे तक ऐसे मरीजों की जांचच की जाती है। मरीज के लक्ष्णों के मुल्यांकन के उपरान्त डॅाक्टर यह तय करता है की मरीज का उपचार वाहय रोगी या आवासीय रोगी के रूप में किया जाना है। वाहय रोगीयों को निःशुल्क दवाईयां दी जाती है तथा मनोविज्ञानिक/काउंसलर द्वारा रोगी तथा उसके परिवार के सदस्यों के लिए परामर्श सत्रों  का आयोजन किया जाता है। गम्भीर लक्ष्णों वाले रोगियों को उनकी सहमति से केन्द्र में भर्ती किया जाता है। आमतौर पर ऐसे रोगियों को 21 दिनों से 30 दिनों तक केन्द्र में ईलाज किया जाता है तथा उपचाराधिन रोगियों को डॅाक्टर तथा स्टाफ नर्सों की निगरानी में उनके बी.पी., तापमान तथा अन्य लैब टैस्ट करवाए जाते है। किसी भी आपात स्थिति  में उचित अस्पताल में रैफर करने की व्यवस्था की गइ है। ईलाज के दौरान मनोचिकित्सक काउंसलर द्वारा व्यक्तिगत परामर्श तथा पारिवार के सदस्यों की परामर्श सुविधाएं दी जा रही हैं। उपचार अवधि के दौरान सुबह के समय शारीरिक  व्यायाम, ध्यान और योगा प्रशिक्षित स्टाफ द्वारा करवाएं जाते है। दिन के समय निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार विभिन्न गतिविधियों में उन्हे व्यस्त रखा जाता है। रोगियों को केन्द्र में ईलाज के दौरान साफ बिस्तर, नाश्ता, चाय, दोपहर का भोजन, रात का खाना मुफ्त दिया जाता है। प्रत्येक महिला की पुनर्वास आवश्यकताओं की पहचान भी की जाती है तथा उनकी रूचि, क्षमता के दृष्टिगत पुर्नवास योजना तैयार कर के उन्हे व्यवसायिक प्रशिक्षण की व्यवस्था की जाती है ताकि नशा छोड़ने के बाद वह अपनी रोजी रोटी कमा सके या आय में बढ़ौतरी भी कर सकें।
महिलाओं के ईलाज को गोपनीय रखा जाता है तथा किसी भी व्यक्ति को उपचाराधीन महिलाओं की जानकारी नहीं दी जाती है। नशा मुक्ति तथा पुनर्वास उपरान्त केन्द्र के कर्मचारी ऐसी महिलाओं के परिवारों के निरन्तर सम्पर्क में रहते हैं ताकि नशे मे दोबारा पड़ने  की स्थिती में उन्हें पुनः ईलाज में लाया जा सके।
गत 3 महीनों में केन्द्र द्वारा 144 महिलाओं को ईलाज की सुविधा प्रदान की जा चुकी है। अधिक/जानकारी सलाह के लिए हेल्पलाइन नं0 01902-265265 से सम्पर्क कर सकते हैं।

Language & Culture Dept, HP in Partnership with Keekli Presents: मीमांसा — Children’s Literature Festival 2023

Leave a Reply

Your email address will not be published.