Himachal Tonite

Go Beyond News

प्रदेश सरकार स्वतंत्र भारत मे स्वतंत्र नागरिकों के अधिकारों का हनन कर रही – राठौर

शिमला,19 जनवरी – कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने प्रदेश सरकार पर आरोप लगाया है कि वह स्वतंत्र भारत मे स्वतंत्र नागरिकों के अधिकारों का हनन कर रही है।उन्होंने कहा कि देश के किसानों को जिस ढंग से अपमानित करने की कोशिश की जा रही है कांग्रेस उसकी कड़े शव्दों में निदा करती है।

राठौर ने आज शिमला के मालरोड पर सिंधु बॉर्डर से आये तीन किसानों के साथ पुलिस की ज्यादती की कड़ी निदा करते हुए कहा है कि देश का संविधान देश के नागरिक को कही भी आने जाने की स्वतंत्रता देता है।कानून की आड़ में पुलिस को ऐसा कोई अधिकार नही है जिससे वह किसी भी नागरिक को यहां आने या घूमने से रोके।

आज शिमला के मालरोड पर देश के तीन किसानों के साथ घटी इस घटना का जैसे ही कांग्रेस अध्यक्ष को जानकारी मिली वह तुरंत इसकी जानकारी लेने के लिए पहले मालरोड पहुंचे व उसके बाद सदर थाना जाकर उन्होंने पीड़ित किसानों से बातचीत की।इस दौरान उनके साथ शिमला जिला शहरी कांग्रेस अध्यक्ष जितेंद्र चौधरी,कांग्रेस लीगल विभाग के शिमला जिला अध्यक्ष चंद्र मोहन ठाकुर,कांग्रेस सचिव वेद प्रकाश ठाकुर,सोशल मीडिया के समन्वयक राजेंद्र वर्मा व व नितिन राणा भी साथ थे।

राठौर ने इस दौरान मालरोड पर मीडिया कर्मियों के साथ पुलिस की बदसलूकी पर भी कड़ा एतराज जताते हुए इस पूरे मामलें की जांच व दोषी पुलिस कर्मियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की मांग की।उन्होंने मीडिया के साथ बदसलूकी को लोकतंत्र में प्रेस के अधिकारों का हनन भी बताया।

राठौर ने पुलिस अधिकारियों से इस बाबत किसानों की गिरफ्तारी और उनके साथ जोरजबरदस्ती कर उन्हें थाने लाने बारे जानकारी मांगी।हालांकि पुलिस ने उन्हें बताया कि उन्हें गिरफ्तार नही किया गया है केवल शांति भंग होने के अंदेशे के चलते उन्हें रखा गया है।

राठौर ने पुलिस प्रशासन से इन किसानों को तुरंत रिहा करने को कहा है।उन्होंने कहा कि देश के किसानों के साथ कांग्रेस किसी भी प्रकार का अन्याय सहन नही करेगी।उन्होंने प्रदेश सरकार की आलोचना करते हुए कहा है कि वह प्रदेश में किसानों, बागवानों की आवाज को दबाने का प्रयास न करें।उन्होंने कहा कि कांग्रेस किसानों के साथ खड़ी है और तीनों कानून रद्द करने की मांग करती है।

Language & Culture Dept, HP in Partnership with Keekli Presents: मीमांसा — Children’s Literature Festival 2023

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *