Himachal Tonite

Go Beyond News

सरकार के लिए सत्र से जरूरी जनता की सुरक्षा : रजत ठाकुर

बोले, विपक्ष कर रहा आधारहीन ब्यानवाजी, कोरोना संक्रमण रोकने में नहीं इनका कोई योगदान

मंडी, दिसम्बर 2 – भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश सह मीडिया प्रभारी रजत ठाकुर ने कोरोना काल में विपक्ष की ओर से की जा रही ब्यानवाजी को आधारहीन और जिम्मेवारी से दूर भागने वाला करार दिया है। उन्होंने यहां जारी प्रैस ब्यान में कहा कि कांग्रेस के नेता दोगली बातों से जनता के बीच स्वयं ही उपहास का कारण बनते जा रहे हैं। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने सभी दलों के नेताओं की राय लेकर विधानसभा सत्र को लेकर अब जो निर्णय लिया है वह प्रदेशहित में काबिलेतारीफ है।

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर पूरी संजीदगी के साथ स्वयं कोरोना संक्रमण रोकने के लिए उठाए जा रहे हर कदम की निगरानी कर रहे हैं लेकिन विपक्ष के नेता बंद कमरों में बैठकर सिर्फ ब्यानवाजी कर जनता को भ्रमित करने का प्रयास कर रहे हैं। हमारे स्वास्थ्य मंत्री स्वयं कोरोना संकट के बीच पी.पी.ई. कीट पहनकर कोविड वार्ड में संक्रमितों से मिलने पहुंचे लेकिन एक भी कांग्रेसी नेता ने इसका स्वागत नहीं किया। सभी मंत्री और विधायक जनता को कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए जागरूक कर रहे हैं।

हिम सुरक्षा अभियान को सफल बनाने के लिए गांव-गांव जा रहे हैं लेकिन कांग्रेसी नेता सिर्फ झूठी बयानबाजियां करने में मशगूल हैं। मंत्रीमंडल ने राज्य में कोविड-19 मामलों की बढ़ती संख्या और समारोहों में विभिन्न प्रतिबंधों के कारण 7 से 11 दिसम्बर तक प्रस्तावित हिमाचल प्रदेश विधानसभा के शीतकालीन सत्र को रद्द करने की सिफारिश करने का निर्णय लिया वह एतिहासिक है लेकिन अब विपक्ष के नेता सिर्फ अपनी राजनीति चमकाने के लिए इस फैसले का विरोध जताने लगे हैं जबकि इस समय सत्र से जरूरी जनता की सुरक्षा सरकार के लिए सर्वोपरी है।

मंत्रिमंडल ने यह निर्णय भी लिया कि मंत्री, सांसद, विधायक कोई भी सार्वजनिक कार्यक्रम आयोजित नहीं करेंगे और राज्य सरकार द्वारा समय-समय पर जारी मानक संचालन प्रक्रियाओं का सख्ती से पालन करते हुए वर्चुअल कार्यक्रम ही आयोजित करेंगे ताकि कोरोना वायरस की चेन को तोडऩे के लिए हम सफल हों लेकिन कांग्रेस के नेता ऐसा नहीं चाहते। इनका महामारी रोकने में कोई योगदान नहीं है और जनता के बीच जाने से भी इनको डर लगता है।

Language & Culture Dept, HP in Partnership with Keekli Presents: मीमांसा — Children’s Literature Festival 2023

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *