Himachal Tonite

Go Beyond News

बरच्छवाड़ में 30 करोड़ से स्थापित हो रही प्री-कोचिंग सैनिक अकादमी-महेन्द्र सिंह ठाकुर

संधोल (मंडी),  26 नवम्बर:

जलशक्ति, बागवानी, राजस्व तथा सैनिक कल्याण मंत्री महेन्द्र सिंह ठाकुर ने कहा हिमाचल प्रदेश के सेना एवं अद्र्धसैनिक बलों में बतौर अधिकारी सेवाएं देने के इच्छुक युवाओं के लिए सरकाघाट के बरच्छवाड़ में लगभग 30 करोड़ रूपये की लागत से प्री-कोचिंग सैनिक अकादमी स्थापित की जा रही है। उन्होने बताया कि इस अकादमी की स्थापना के लिए टैंडर प्रक्रिया को पूर्ण कर लिया गया है तथा जल्द ही इसका निर्माण कार्य प्रारंभ हो जाएगा। महेन्द्र सिंह ठाकुर आज संधोल में सीएसडी कैंटीन एवं सैनिक विश्राम गृह निर्माण को चयनित भूमि का निरीक्षण करने के उपरान्त उपस्थित जन समूह को संबोधित कर रहे थे। इस मौके पर आर्मी ट्रेनिंग कमांड शिमला के मेजर जनरल संजीव शर्मा भी विशेष तौर पर उपस्थित रहे तथा चयनित भूमि का निरीक्षण किया।
उन्होने कहा कि हिमाचल प्रदेश में प्री-कोचिंग सैनिक अकादमी स्थापित हो जाने से प्रदेश के बच्चों को कोचिंग लेेने के लिए अब प्रदेश के बाहर नहीं जाना पड़ेगा। उन्होने कहा कि इस अकादमी का सबसे अधिक लाभ प्रदेश के उन होनहार बच्चों को मिलेगा जो सुविधाओं के अभाव में कोचिंग प्राप्त करने के लिए प्रदेश के बाहर जाने में असमर्थ होते हैं। इसके अतिरिक्त सामान्य परिवारों के बच्चों के साथ-साथ पूर्व सैनिकों के बच्चों एवं प्रदेश की बेटियों को भी इस अकादमी का लाभ प्राप्त होगा।
महेन्द्र सिंह ठाकुर ने कहा कि सेना में कार्य करना गर्व की बात है। हमारे सैनिक घरों से हजारों मील दूर रहकर देश की सेवा में दिन-रात कार्यरत रहते हैं। उन्होने पूर्व सैनिकों द्वारा देश के लिए दी गई उनकी सेवाओं को भी याद किया तथा कहा कि हमारे पूर्व सैनिक, उनके परिवारजन तथा वीर नारियां भी हमारे देश का गौरव हैं। ऐसे में सेवारत एवं पूर्व सैनिकों व उनके परिवारजनों को एक ही छत के नीचे बेहतर सुविधाएं प्राप्त हों इस दृष्टि से संधोल में जल्द ही सीएसडी कैंटीन तथा सैनिक विश्राम गृह निर्माण किया जाना प्रस्तावित है। साथ ही ईसीएचएस की सुविधा भी संधोल में ही मिले इस दिशा में भी प्रयास किये जा रहे हैं।

तीन जिलों का त्रिवेणी संगम, आदर्श गांव के तौर पर हो रहा विकसित

जलशक्ति मंत्री ने कहा कि संधोल तीन जिलों का त्रिवेणी संगम है तथा इसे बतौर आदर्श गांव विकसित करने की दिशा में हरसंभव कदम उठाए जा रहे हैं। उन्होने कहा कि मुख्य मंत्री जय राम ठाकुर के आशीर्वाद से संधोल को 100 बिस्तर का सिविल अस्पताल मिला है तथा इसका भवन निर्माण कार्य युद्धस्तर पर किया जा रहा है ताकि क्षेत्र के लोगों को जल्द से जल्द बेहतरीन स्वास्थ्य एवं चिकित्सा सुविधाओं का लाभ मिल सके। साथ ही क्षेत्र के लोगों को सभी विभागों की सेवाएं एक ही छत के नीचे प्राप्त हों इस दृष्टि से मिनी सचिवालय भवन का निर्माण कार्य भी युद्धस्तर पर जारी है। संधोल के लिए 30 करोड़ रूपये की सिंचाई योजना का कार्य अंतिम चरण में है जबकि संधोल व आसपास के आधा दर्जन पंचायतों को पेयजल की बेहतर सुविधा को 30 करोड़ रूपये की लागत से परियोजना का कार्य भी जारी है तथा जल्द ही मुख्य मंत्री इन परियोजनाओं को क्षेत्र की जनता को समर्पित करेंगे। इसके अतिरिक्त संधोल में 33 केवी विद्युत का एक नया उपकेंद्र के साथ-साथ हेलिपैड का भी निर्माण भी किया जाएगा।
उन्होने बताया कि लगभग 12 करोड़ रूपये की लागत से संधोल डिग्री कॉलेज भवन का निर्माण किया जा रहा है। इसके अतिरिक्त संधोल में प्रदेश की पहली ग्रामीण क्षेत्र सीवरेज परियोजना निर्मित की जा रही है जिसे भी जल्द ही जनता को समर्पित किया जाएगा।

हिम सुरक्षा अभियान को सफल बनाने में सभी लोग सहयोग प्रदान करें
जलशक्ति मंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार ने कोरोना महामारी के साथ-साथ टीबी एवं कुष्ठ रोग से प्रदेश को मुक्त करने के लिए हिम सुरक्षा अभियान की शुरूआत की है। इस अभियान के अंतर्गत आगामी 27 दिसम्बर तक आशा, आंगनबाडी एवं अन्य स्वास्थ्य कर्मी घर-घर जाकर लोगों के स्वास्थ्य बारे जानकारी एकत्रित करेंगे। इस दौरान उन्होने सभी लोगों से पूरा सहयोग प्रदान करने का आहवान किया ताकि इस अभियान को सफल बनाया जा सके।
साथ ही लोगों से कोविड-19 संक्रमण से बचाव को लेकर पूरी एहतियात बरतने का भी आहवान किया। उन्होने पर्याप्त सामाजिक दूरी के साथ-साथ फेस मास्क का प्रयोग करने तथा बार-बार हाथों को साबुन से धोने की सलाह भी दी। इसके अतिरिक्त सरकार द्वारा समय-समय पर जारी दिशा निर्देशों की अनुपालना का भी आहवान किया।
उन्होने सीएसडी कैंटीन एवं सैनिक विश्राम गृह के लिए चयनित भूमि बारे जलशक्ति विभाग के अधिकारियों को उचित कदम उठाने के भी निर्देश दिए।
इससे पहले आर्मी ट्रेनिंग कमांड शिमला के मेजर जनरल संजीव शर्मा ने कहा कि संधोल में सीएसडी कैंटीन एवं सैनिक विश्राम गृह निर्माण में प्रदेश सरकार की हरसंभव मदद की जाएगी।

Language & Culture Dept, HP in Partnership with Keekli Presents: मीमांसा — Children’s Literature Festival 2023

Leave a Reply

Your email address will not be published.