Himachal Tonite

Go Beyond News

Jaypee University of Information Technology

भाजपा नेताओं ने सीपीएस रामकुमार को घेरा

सोलन, भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष पूर्व मंत्री राजीव सहजल और भाजपा नेता परमजीत सिंह पम्मी ने कांग्रेस नेता चौधरी रामकुमार के बयान का पलटवार करते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी के अंदर गुट के अंदर गुट बनने शुरू हो गए हैं, जिसके कारण कांग्रेस पार्टी में अंतर्कलह चरम सीमा पर है और कांग्रेस पार्टी का प्रतिएक नेता अपना वर्चस्व बनाने के लिए बयानवीर बना बैठा है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस के नेता द्वारा लगाए गए सभी आरोप निराधार और तथ्यहीन है, भारतीय जनता पार्टी की सरकार में उद्योग बड़ा था और औद्योगिक क्षेत्र में भ्रष्टाचार मुक्त वातावरण प्रदान किया गया था जिससे उद्योगपति खुश थे। कभी-कभी तो ऐसा लगता है कि कांग्रेस की नेताओं ने आंखें मूंद ली है कि उनको दिखता ही नहीं है कि हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस राज में खनन माफिया किस प्रकार से पनप रहा है।

सम्बन्धित विभागों से प्राप्त सूचना के अनुसार प्रदेश में दिनांक 01.01.2022 से 31.08.2023 तक अवैध खनन के कुल 2610 मामले दर्ज किए गए हैं। जिनमें से 1534 मामलों को कम्पाउण्ड करने के पश्चात् दोषियों से मु0 2,41,71,360/- (2.42 करोड़) रूपये की जुर्माना राशि वसूल की गई है एवं शेष मामले न्यायालय या कार्यालय में नियमानुसार आगामी कार्रवाई हेतु लम्बित है। दिनांक 01.01.2022 से 31.08.2023 तक अवैध खनन में संलिप्त कुल 124 मशीनें व 139 वाहन जब्त किए । सम्बन्धित विभागों से प्राप्त सूचना के अनुसार दिसम्बर, 2022 से 31.08.2023 तक प्रदेश में अवैध खनन के कुल 382 मामले पकड़े गए जिनमें से 253 मामलों में दोषियों से मु0 54,09,400/- रू0 की जुर्माना राशि वसूल की गई है तथा 129 मामले माननीय न्यायालय या कार्यालय में नियमानुसार आगामी कार्रवाई हेतु लम्बित है। यह तो उसकी संख्या है जो पकड़े गए हैं पर जो नेताओं के संरक्षण पर खनन चल रहा है उसका क्या करना है वह गंभीर विषय है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार के नेताओं ने उद्योगपतियों के व्यापार में इतने विघ्न खड़े कर दिए हैं कि वह हिमाचल प्रदेश से लगातार पलायन कर रहे हैं इससे हिमाचल प्रदेश के औद्योगिक विकास पर नकारात्मक असर पड़ रहा है।
अगर ध्यान से देखा जाए औद्योगिक क्षेत्र में कांग्रेस का माफिया सक्रिय है इसको लेकर कांग्रेस के छोटे नेताओं के काफी ऑडियो इस क्षेत्र में पहले भी वायरल हुए हैं जो कि सोशल मीडिया पर भी जमकर चले।

हिंदी लेखन प्रतियोगिता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *